भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस पार की जमीन / सत्यनारायण सोनी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:19, 31 अक्टूबर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
बच्चे के पास
नहीं है कोई जेट विमान
कोई रॉकेट
या हवाई सर्वेक्षण करता
कोई हैलिकॉप्टर ।

उसके पास है
प्यार की डोरी में बँधी एक पतंग
उड़ते-उड़ते पहुँच गई जो
सरहद पार के आसमान में
बाँट रही एक अदद मुस्कान ।

कोई शक की नज़रों
नहीं देखेगा उसे सरहद पार ।
न ही दागी जाएगी कोई मिसाइल उसे गिराने को ।

कोई बच्चे जैसा बच्चा सरहद पार का
निहारेगा उसे
तालियाँ बजाएगा, खिलखिलाएगा ।
कटकर जाएगी जब तो वह उमंगों भर जाएगा,
लूटने को दोनों हाथ फैलाएगा ।
और इस प्रकार भर जाएगी मुस्कान से
सरसब्ज़ हो जाएगी प्यार से
उस पार की ज़मीन ।