भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक गाथा लिखनी थी / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:30, 3 मई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मुझे इतिहास रचना था
मुझे नीर भरी,
दुःख की बदली बन,
अपने परिचय को न तो
समेट लेना था,
और न ही
अपने इतिहास की
इतिश्री करनी थी।
मुझे तो अपने एहसास के,
दरख़्त पर संघर्ष की,
एक गाथा लिखनी थी।
बदली सा मचलना था,
घनघोर घटाओं की
अलमस्त छाँव में ठहरना था,
बारिश की बूँदों -सा गिरना था।
अनायास ही अभेद मन को
सराबोर भिगोना था,
नीर बनकर सड़क, गली से
गुजरना था।
झरना बन नदी में
और नदी बन समंदर में
मिल विस्तरित होना था।
फिर,
दर्द से जमना था,
बेचैनी की ऊष्मा से उबलना था,
फिर बेशक्ल आसमान मे
उड़ना था और,
इस चक्र का एक
इतिहास बनाना था,
कुछ निशाँ छोड़ जाए,
वो इतिहास रचना था।

-0-

<.poem>