भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक दिन चाँद / विष्णु नागर

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:20, 1 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मैंने चाँद को देखा
तो चाँद ने भी मुझे देखा

जब मैंने उससे बातें कीं
तो उसने भी मुझसे बातें कीं

लेकिन जब मैं उससे मिलने आगे बढ़ा
तो वह मुझसे आगे बढ़ गया

एक दिन तो वह इतना
आगे बढ़ा
कि उस तक पहुँचूँ-पहुँचूँ, तब तक तो सुबह हो चुकी थी!