Last modified on 24 फ़रवरी 2010, at 09:01

एक परवाज़ दिखाई दी है / गुलज़ार

Sandeep Sethi (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:01, 24 फ़रवरी 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

एक परवाज़ दिखाई दी है
तेरी आवाज़ सुनाई दी है

जिस की आँखों में कटी थी सदियाँ
उस ने सदियों की जुदाई दी है

सिर्फ़ एक सफ़ाह पलट कर उस ने
बीती बातों की सफ़ाई दी है

फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है

आग ने क्या क्या जलाया है शब भर
कितनी ख़ुश-रंग दिखाई दी है