भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक प्रेम कविता / कुमार विकल

Kavita Kosh से
212.192.224.251 (चर्चा) द्वारा परिवर्तित 14:18, 9 सितम्बर 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार विकल |संग्रह= रंग ख़तरे में हैं / कुमार विकल }} यह ग...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह गाड़ी अमृतसर को जाएगी

तुम इसमें बैठ जाओ

मैं तो दिल्ली की गाड़ी पकड़ूँगा

हाँ, यदि तुम चाहो

तो मेरे साथ

दिल्ली भी चल सकती हो

मैं तुम्हें अपनी नई कविताएँ सुनाऊँगा

जिन्हें बाद में तुम

अपने दोस्तों को

लतीफ़े कहकर सुना सकती हो.


तुम कविता और लतीफ़े के फ़र्क को

बख़ूबी जानती हो

लेकिन तुम यह भी जानती हो

कि ज़ख़्म कैसे बनाया जाता है


वैसे मैं अमृतसर भी चल सकता हूँ

वहाँ की नमक—मण्डी का नमक मुझे ख़ास तौर से अच्छा लगता है.