भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक रात / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:34, 9 मई 2012 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=कंस्तांतिन कवाफ़ी |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> क...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कमरा सस्ता और गंदला था ।
जारज शराबख़ाने ऊपर छिपा ।
खिड़की से तुम गली देख सकते थे
सँकरी और कूड़े-कचरे से भरी ।
नीचे से आती कुछ कामगारों की आवाज़ें ।
पत्ते खेलते और शराब के दौर चलते हुए ।

और वहाँ काफ़ी बार बरते, निचले बिस्तर पर
मेरे पास प्यार की देह थी, मेरे पास होंठ थे,
आनन्द के गुलाबी होंठ और विलासभरे...
गुलाबी होंठ ऐसे आनंद के, कि अब भी
ज्यों ही मैं लिखता हूँ, इतने बरसों बरस बाद !
अपने अकेले घर में, फिर से हूँ धुत्त नशे में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : पीयूष दईया