भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक रोज़ बदल जाएँगे वे / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:11, 24 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे जो रोज़ चहक कर करते हैं बातें
जिनकी हँसी में भरी है आत्मीयता की चमक
वे जो रोज़ पूछते हैं हालचाल
बदलने ही वाले हैं उनके सुर
उनके सुर को उबासी में बदलने का इन्तज़ार है
वे जो रोज़ हंँसी के छींटे फेंकते हुए गुज़रते हैं
उनकी मायूसी और उदासी बस टपकने ही वाली है
कि एक दिन सबकुछ बदल जाना है /
यह अपनापन / यह आत्मीयता/ यह उज्ज्वल हँसी / यह रुमानी ख़याल / यह स्नेहपूरित आँखें / सब एक दिन यकबयक बदल जाएँगी
कि इनमें नहीं होता स्थायी भाव
संचारी भाव इनमें कराता रहता है
अणु विस्फोट !
अकारण घटता नहीं कुछ
कुछ लोग तलाशते रह जातें हैं बदलाव का सबब
उधर
अपने मतलब और ज़रूरतो के हिसाब से
बदल जाता है मिजाज का मौसम
उसे नईं आमद के आखेट की प्रतीक्षा जो होती है।