भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"एक शरारती लड़की / आर्थर रैम्बो / मदन पाल सिंह" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=आर्थर रैम्बो |अनुवादक=मदन पाल सिं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:37, 8 नवम्बर 2018 के समय का अवतरण

अनजाने बेल्जियन खाने से एक बार ही प्लेट भर मैं
सुकून से पसर गया एक बड़ी कुर्सी में,
उस भूरे भोजन कक्ष में,
जो महक रहा था फलों और ताज़े रंग-रोगन की ख़ुशबू से।

खाना खाते हुए सुनी मैंने घण्टे की आवाज़ — फिर नि:शब्द शान्ति
एक आवाज़ के साथ रसोई का दरवाज़ा खुला
और पता नहीं किसलिए बाहर निकली नौकरानी
गले में आधा खुला गुलुबन्द और नफ़ासत से सँवरे बाल लिए।

टहलते हुए उसका छोटा नाज़ुक हाथ थिर रहा था
उसके कोमल गाल पर, जो लिए थे नाश्पाती-सी गुलाबी-श्वेत आभा
और वह मासूम बच्चे की तरह बिचका रही थी नरम होंठ।

मेरी सुविधा के लिए, मेरे पास झुककर तश्तरी इकट्ठी कर रही थी वह
तब ऐसे ही, बिल्कुल, चुम्बन पाने के लिए ही तो बुदबुदाई —
 "ठण्ड लग गई है मेरे गालों को।"

मूल फ़्रांसीसी भाषा से अनुवाद : मदन पाल सिंह