भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ए कान्छा ठट्टैमा / रत्न शमशेर थापा

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:48, 21 मई 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केटि – ए कान्छा, ठट्टैमा यो बैंश जान लाग्यो
केटा – जाँदैन बाचा खेर पर्ख लिन आउँला

केटि – मिर्मिरे उषामा औंठी साट्न आउनु
शिरमा रेशमी फित्ता बाँधी आउनु २

केटा – अमुल्य हिरालाई फूलै फूलको डोरी
बाजालाई अघिलाई बैसाखमै आउँला

केटा – ओभानो सिउँदोमा सिन्दुर छरीदिउँला
सुनको चुराले नाडी सजाईदिउँला

केटि – सितारा जडेको घुम्टो म ओढी
सुस्तरी लाजले निहुरि म आउँला