भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसी को खेले तोसे होरी / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:49, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=सूरदास }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: सूरदास

ऐसी को खेले तोसे होरी॥ टेक
बार-बार पिचकारी मारत, तापै बाँह मरोरी। ऐसी.
नन्द बाबा की गाय चराबो, हमसे करत बरजोरी।
छाछ छीन खाते ग्वालिन की, करते माखन चोरी। ऐसी.
चोबा चन्दन और अरगजा, अबीर लिये भर झोरी।
उड़त गुलाल लाल भये बादर, केसरि भरी कमोरी। ऐसी.
वृन्दावन की कुंज गलिन में, पावौं राधा गोरी
‘सूरदास’ आश तुम्हरे दरश की, चिरंजीवी ये जोरी। ऐसी.