भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"ओ आलू कचालू / अनुभूति गुप्ता" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुभूति गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
{{KKCatBaalKavita}}
 
{{KKCatBaalKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
आओ हम खेले
+
ओ आलू कचालू,  
वही खेल पुराना,
+
तुम कहाँ गए थे?
छुपम-छुपाई का
+
क्या  बगिया में
पसंदीदा
+
गुम हो गए थे?
खेल हमारा।
+
बिल्ली मौसी के
चिंटू, बबली,
+
साथ खेल रहे थे,
टिंकू, मीकू
+
क्या मिट्टी में
तुम सब कहीं
+
लोटपोट हो गए थे?
छुप जाओ,
+
एक, दो,
+
तीन, चार
+
पकड़े गये
+
चिंटू, बबली, टिंकू,
+
अब मीकू तुम
+
बाहर आओ।
+
 
</poem>
 
</poem>

13:13, 2 मई 2017 के समय का अवतरण

ओ आलू कचालू,
तुम कहाँ गए थे?
क्या बगिया में
गुम हो गए थे?
बिल्ली मौसी के
साथ खेल रहे थे,
क्या मिट्टी में
लोटपोट हो गए थे?