भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत/ मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:59, 25 जून 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

औरत-१ रविवार के दिन

वह अकेली नहीं है
सारा परिवार है उसके साथ
संजोये हुए आंखों में अवकाश,
देखते हुए दिवास्वप्न मेहनत से निज़ात का,
पर, वह कोसों दूर है
अवकाश से, श्रमशीलता ही उसका अवकाश है
जो ऐन रविवार
होता है पुरजोर

वह पूरी धोबन बनती है
इसी दिन,
कुशल रसोईयां, मेहनतकश महारी बनती है
इसी दिन,
इसी दिन, वह सास-ससुर
जेठ-जेठानियों के सामने
लगाती है अपने
सेवा-भाव की प्रदर्शनी
पति की नज़रें तौलती हैं उसे
एक संपूर्ण गृहस्थन के रूप में
 पति की नज़रों में
बनी-ठनी रहने के लिए
सप्ताह-भर
उसे खरा उतारणा होता है
अप्सरा बनकर,
परिवार में अपनी जडें
झकडी-तगडी बनानी होती हैं
ममता की वेदी पर चढकर

आज, बहुत-कुछ बनने का
साप्ताहिक पर्व है उसका
वह इसे भरसक मनाएगी आज
और मनाती जाएगी पूरे साल
कम से कम बावन बार।