भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कंतक थैयां घुनूं मनइयां / राष्ट्रबंधु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:17, 17 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राष्ट्रबंधु |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKC...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कंतक थैयां घुनूं मनइयां,
चंदा भागा पइयां-पइयां।
यह चंदा चरवाहा है, नीले-नीले खेत में,
बिलकुल सेंत-मेंत में, रत्नों भरे रेत में।
किधर भागता लइयां-पइयां,
कंतक थैयां घुनूं मनइयां।
अंधकार है घेरता, टेढ़ी आंखों हेरता,
चांद नहीं मुंह फेरता, रॉकेट को है टेरता।
मुन्नू को लूंगा मैं कइयां,
कंतक थैयां घुनूं मनइयां।
मिट्टी के महलों के राजा, ताली तेरी बढ़िया बाजा,
छोटा-छोटा छोकरा, सिर पर रक्खे टोकरा।
राम बनाए डोकरा,
बने डोकरा, करूं बलइयां।
कंतक थैयां घुनूं मनइयां।