भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कइसे ईमान बचतय हम्मर / सिलसिला / रणजीत दुधु" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रणजीत दुधु |अनुवादक= |संग्रह=सिलस...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
(कोई अंतर नहीं)

12:07, 14 जून 2019 का अवतरण

कइसे ईमान बचतय हम्मर, भीड़ लगल बैइमान के हे
केकरा फरियाद सुनइअय हम, सरदारी तो सैतान के हे

ऊपर से देखवऽ तऽ चेहरा
बिलकुल भोला भाला हे
भीतर एकदमे से धोल
दीदा काला काला हे

बतर एकर करनी हे बोली तइयो गुमान के हे
कइसे ईमान बचतय हम्मर, भीड़ लगल बैइमान के हे।

जब दीदे में न´ पानी हे
तो समझऽ खतम कहानी हे
के ओकरा पर भरोसा करतय
जेकर उल्टल बोली बानी हे

भरसटे के हय बरक्कत समय न´ ई इंसान के हे
कइसे ईमान बचतय हम्मर, भीड़ लगल बैइमान के हे।

हम अप्पन फरज निभावऽ ही
तइयो गरियावल दुत्कारल जा ही।
हम अपना भर चल रहलूँ हऽ,
तइयो टिटकारल जा ही

कइसे गरीब सब बचतय अब ई दुनिया तो धनवान के हे
कइसे ईमान बचतय हम्मर, भीड़ लगल बैइमान के हे।

चोर चोर मउसेरा भाय बनल,
हमही निपट अकेला ही।
जतना भी मिले हे गुरूए हम्मर,
हमही तो चौपट चेला ही॥

जो खुल के हम बोल देवइ तो आफत हम्मर जान के हे
कइसे ईमान बचतय हम्मर, भीड़ लगल बैइमान के हे।