भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कबहूँ तौ घाम कड़ा है / बोली बानी / जगदीश पीयूष

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ४ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:41, 24 मार्च 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कबहूँ तौ घाम कड़ा है
कबहूँ बीता भरि छाँही
हम तौ सुखान बिरवा हन
अब सुख की चिरई नाँही

अबकी असाढु जो सूखी
तौ हरहा भूखे मरिहैं
नेता कोरे कगदन पर
नहरी दुइ चारि बनइहैं
ददुआ अब बड़े-बड़ेन पर
है नाटेन कै परछाँही

जुगु बदलि गवा है कक्कू
सब अपनै रागु अलापैं
कामे काजे मा अब तौ
मेहरी मरदन सँग नाचैं
परिगै है भाँग कुँआ मा
सब झूमैं दै गरबाँही