भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कबीरो किन भरमायो, अम्माँ महारो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:06, 19 अप्रैल 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=निमाड़ी }...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

  कबीरो किन भरमायो, अम्माँ महारो

(१) कबीरा की औरत कहती सासु से
    ऐसो पुत्र क्यो जायो
    खबर हुती मख नीच काम की
    ब्याव काहै को करती

 कबीरो किन भरमायो, अम्माँ महारो
    
(२) कबीरा की माता कहती कबीर से
    तुन म्हारो दुध लजायो
    खबर हुती मख गर्भवाँस की
    दुध काहे को पिलाती

 कबीरो किन भरमायो, अम्माँ महारो