भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब सीखोगे तुम / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:39, 13 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वाति मेलकानी |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब सीखोगे तुम...
खाली पन्नों पर लिखी
कविता पढ़ना।
मेरी आवाज का
नकाब हटाकर
अपने कानों को
मेरी खामोशी तक ले जाना
और सुनना
ठहरे पानी में
सदियों पहले डूब चुके
पत्थरों के
गिरने की अनुगूँज को।
कब सीखोगे तुम...
मेरी भटकी आँखों में
अपना पता लगाना।
पाँचों उँगलियों से बँधी
मेरी बन्द मुट्ठी के
ढीलेपन को समझ पाना।
मेरी सधी उड़ान के
कंपन को महसूस करना।
तेज रफ्तार से ढके
मेरे लड़खड़ाते पैरों को देख पाना।
कब सीखोगे तुम...
खौलते पानी में
उठते बुलबुलों से
मेरे हर आवरित झूठ के
तपे हुए
सच को पकड़ पाना।