भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कभी जो मअरका ख़्वाबों से रत-जगों का हुआ / शहनाज़ नूर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:20, 9 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शहनाज़ नूर }} {{KKCatGhazal}} <poem> कभी जो मअरका...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी जो मअरका ख़्वाबों से रत-जगों का हुआ
अजीब सिलसिला आँखों से आँसुओं का हुआ

जला के छोड़ गया था जो ताक़-ए-दिल में कभी
किसी ने पूछा न क्या हाल उन दियों का हुआ

लिखा गया है मिरा नाम दुश्मनों में सदा
शुमार जब भी कभी मेरे दोस्तों का हुआ

मज़ाक़ उड़ाते थे आँधी से पहले सब मेरा
जो मेरे घर का था फिर हाल सब घरों का हुआ

बदल रही हैं मिरे हाथ की लकीरें फिर
कहा न अब के भी शायद नजूमियों का हुआ

वफ़ा-शिआर तबीअत का ये सिला है ‘नूर’
मेरी हयात का हर लम्हा दूसरों का हुआ