भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी तो ऐसा ज़रूर हुआ होगा / मनोज छाबड़ा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:07, 16 दिसम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनोज छाबड़ा |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> कभी तो ऐसा ज़रूर…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी तो ऐसा ज़रूर हुआ होगा
कि
पतंग उड़कर आकाश हो गई होगी
कि
मछली तैरते-तैरते समुद्र हो गई होगी

कभी तो ऐसा हुआ होगा
कि
पत्थर का बुत बनाया गया हो
और बात करने लगा हो
कि बादलों ने अपने हाथों से
मरुस्थल में कोई नदी बनाई हो

कभी तो ऐसा ज़रूर होगा
कि
भूख
लहलहाते खेत बन जाएगी