भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३३ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:03, 21 दिसम्बर 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिंजरे के दरवाज़े पर
चिडिय़ा सर पटक ज़ख्मी
हो रही है
बेचैन हो लहूलुहान हो जाती है

अब तुम पास आओगे
बड़बड़ाओगे
उसके दरवाज़े पर बंधी रस्सी खोलोगे
छुओगे सहलाओगे

उपचार के लिए बाहर ले जाओगे
चिड़िय़ा नीला आसमान और परिंदा देखेगी
हवा और किरणों से अपने आंख सेकेगी
अपनी सांसों में भरेगी जीने की चाह

अब कुछ दिन चिड़िय़ा और जी पायेगी
ना जी पाई तो ज़ख्मी होकर
फिर आसमान देखने आएगी...।