भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३७ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:04, 21 दिसम्बर 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगल के कमरे से
ऊंची आवाज़ों का आना

सामान का बिखर जाना
छोड़ दूंगा चली जाऊंगी का
बार-बार दुहराया जाना

कुछ तमाचे सिसकियां
कुछ ठहरा सा सन्नाटा

देर रात पास वाले कमरे में
कांपते रहे ब‘चे
पांच साल की गुडिय़ा
जरा से बड़े भाई की गोद में
चिपक कर सो गई

इस तरह एक और सुबह हो गई।