भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करती है माँ याद (हाइकु) / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
Dr. ashok shukla (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:44, 17 जुलाई 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

१.
दुखी हिरणी
खोजती है अपना
बिछुड़ा छौना

२.
मैया पुकारे
आँगन में खेले हैं
नन्द दुलारे
३.
खुश बहुत
यशोदा मैया, जन्मा
कृष्ण कन्हैया।

४.
सुबक पड़ी
माँ से विदाई की थी
निष्ठुर घड़ी।

५.
माँ का आँचल
ममता का सागर
दुआ लहरें।

६.
आई हिचकी
करती है माँ याद
बेटा विदेश।

७.
माँ तो सदैव
करती रही त्याग
थकी ही नहीं।

८.
भुलाता दुख
ममता का आँचल
देता है सुख।

९.
रात भर थी
बैठी माँ सिरहाने
सोई ही नहीं।