भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"करमन की गति न्यारी / अंशु मालवीय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
 +
''' करमन की गति न्यारी  '''
 +
 
कर्ज़ की हमको दवा बताई
 
कर्ज़ की हमको दवा बताई
 
कर्ज़ ही थी बीमारी
 
कर्ज़ ही थी बीमारी
पंक्ति 17: पंक्ति 19:
 
:::: साधो !
 
:::: साधो !
 
:::: करमन की गति न्यारी ।
 
:::: करमन की गति न्यारी ।
बढ़ती मंहगाई की रस्सी
+
बढ़ती महंगाई की रस्सी
 
ग्रोथ रेट बैलेन्स बनाए
 
ग्रोथ रेट बैलेन्स बनाए
 
घट-बढ़ के सर्कस के बाहर
 
घट-बढ़ के सर्कस के बाहर

16:31, 24 नवम्बर 2010 के समय का अवतरण

करमन की गति न्यारी

कर्ज़ की हमको दवा बताई
कर्ज़ ही थी बीमारी
साधो !
करमन की गति न्यारी ।
गेहूँ उगे शेयर नगरी में
खेतों में बस भूख उग रही
मूल्य सूचकांक पे चिड़िया
गाँव शहर की प्यास चुग रही
करखानों में हाथ कट रहे
मक़तल में त्यौहारी
साधो !
करमन की गति न्यारी ।
बढ़ती महंगाई की रस्सी
ग्रोथ रेट बैलेन्स बनाए
घट-बढ़ के सर्कस के बाहर
भूखों के दल खेल दिखाए
मेहनत-क़िस्मत-बरकत बेचें
सरकारी व्योपारी
साधो !
करमन की गति न्यारी ।
शहर-शहर में बरतन मांजे
भारत माता ग्रामवासिनी
फिर भी राशनकार्ड न पाए
हर-हर गंगे पापनाशिनी
ग्लोबल गाँव हुई दुनिया में
प्लास्टिक की तरकारी
साधो !
करमन की गति न्यारी !