भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करै छी हम प्रणाम यौ / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:49, 21 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एस. मनोज |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatMaithiliRac...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करै छी हम प्रणाम यौ

हम पतवार हमहीं छी नैया
हम सभकेँ छी अहैं खेबैया
बिन गुणवत्ता शिक्षण रहत त
होयबै अहाँ बदनाम यौ

शिक्षाक स्तर जँ खसले जैतै
नेनाक विकास नहि होयतै
त एक समयमे है यौ गुरूजी
अहौ होयबै बेकाम यौ

मोती बिन जँ शीपी पलतै
ज्ञानक बिन जँ कक्षा रहतै
शनैः शनैः सभ विद्यालय त
भ जाएत निष्प्राण यौ

शिक्षक होएत छथि युग निर्माता
बाल बोध केर भाग्य विधाता
भविष्य निर्माण जँ नहिये होएत
सभ करत कोना प्रणाम यौ।