भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कला के बारे में / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:35, 24 अप्रैल 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाज़िम हिक़मत |अनुवादक=दिगम्बर |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी-कभी मैं भी कह देता हूँ — हाय,
अपने दिल की गहराइयों से
जब देखता हूँ सुनहरे बालों की लटों में गुँथी
ख़ूनी रंग के मोतियों की माला !

लेकिन मेरी कविता की देवी को
पसन्द है हवा से बातें करना
इस्पात से बने डैनों पर
जैसे शहतीर मेरे झूला पुलों के !

मैं दिखावा नहीं करता
कि गुलाब के लिए बुलबुल का मातम
आसान नहीं कानों में गूँजना…
लेकिन वह जुबान
जो सचमुच मुझसे बात करती है
वह तो बिथोवेन के सोनेट हैं बजते हुए
ताम्बा, लोहा, लकड़ी, हड्डी और ताँत पर….

आप के लिए मुमकिन है
सरपट भागते हुए गायब हो जाना
धूल के गुबार में !
जहाँ तक मेंरी बात है, मैं नहीं बदलूँगा
असली नस्ल के अरबी घोड़े से
छह मील की रफ़्तार वाला
अपना लोहे का घोड़ा
जो दौड़ता है लोहे की पटरी पर!

कभी-कभी मेरी आँखें उलझ जाती हैं
किसी बूढ़ी गूँगी बड़ी मक्खी की तरह
हमारे घर के कोने में लगे चतुर मकड़ी के जाले में.
लेकिन सच पूछो तो मैं देखता हूँ
सतहत्तर मंज़िले, मजबूत कंक्रीट के पहाड़
जिनको बनाते हैं मेरे नीली वर्दी वाले बिल्डर !

मिलना होता अगर मुझको
जवान अदोनिस[1], बाइब्लोस के देवता की
मरदानी सुन्दरता से किसी पुल पर,
तो शायद मैं ध्यान ही नहीं देता उसकी तरफ;
मगर मैं रोक नहीं सकता टकटकी लगाने से
अपने फ़लसफ़े की बेजान आँखों के अन्दर
या अपने फ़ायरमैन के पसीने से सराबोर
सपाट चेहरे पर, दहकता सूरज की तरह !

हालाँकि मैं पी सकता हूँ
घटिया सिगरेट
बिजली घर में अपने काम की जगह पर,
लेकिन अपने हाथों से कागज में लपेटकर
नहीं पी सकता तम्बाकू —
चाहे कितना ही बेहतरीन क्यों न हो !

चमड़े की जैकेट और टोप में सजी
अपनी बीबी का सौदा
न आज तक किया और न आगे करूँगा
ईव के नंगेपन से !

मुमकिन है कि मेरे पास नहीं हो शायराना रूह?
लेकिन मैं क्या करूँ
अगर मैं अपने खुद के बच्चों से प्यार करता हूँ
कहीं ज्यादा ।

अंग्रेज़ी से अनुवाद : दिगम्बर

शब्दार्थ
  1. अदोनिस – ग्रीक पौराणिक कथाओं का एक धार्मिक रहस्यादी चरित्र। सुन्दरता का प्रतीक। अदोनिस की मृत्यु एस्बोस द्वीप के शायर सैप्फो के चारों ओर युवा लड़कियों के घेरे में हुई। ऐसा दिखाया गया है