भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कश्मीर-दो / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:13, 13 जुलाई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: <poem>पहलगाम, सोनमर्ग, गुलमर्ग- सभी हैं खाली-खाली-से। उदास चेहरे लिए ख…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहलगाम,
सोनमर्ग,
गुलमर्ग-
सभी हैं खाली-खाली-से।
उदास चेहरे लिए
खच्चरों के साथ
आगंतुकों की आस में
सूनी आंखे
ढूंढती हैं अपनों को।
औचक,
किसी को आया देख
झपट पड़ते हैं लोग।
जन्नत की सैर कराने
ज्यादा नहीं,
थोड़ा-सा ही
पाने की होड़
आने वालों को भी
डराती है एकबारगी।
पर-
समझते ही,
रोता है मन
अंदर ही अंदर
अपनों के दर्द से।
अपनों की आस में
चलती है इनकी सांस।
पर-
कब तक?