भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कस्बे वाली लड़की / दीपिका केशरी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपिका केशरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:57, 13 अक्टूबर 2017 के समय का अवतरण

प्रेम कविताएँ पढते हुए कस्बाई लडकियां
बागी हो जाया करती हैं,
वो खिड़की से भी यू कूदती हैं
कि असली दुनिया में साबूत पहुंच जाती हैं
और जब वही दुनिया बेरुखी से उसका हाथ दबोचती है,
तब वो भागती हुई
फिर से लौट आती है अपने बिस्तर पे
जहां रखी थी उसने एक आधी पढ़ी कविता
दो जोड़ी नजरें
एक चश्मा
चश्में के डब्बे के ऊपर चिपकी एक कत्थई बिंदी
एक गहरे रंग का दुपट्टा
अपने कानों की बालियां
और न जाने क्या क्या !
लौट कर वो अपने डायरी में लिखती है
प्रेम कविताएँ झूठी होती हैं
साथ ही उस लड़की का किरदार भी झूठा है
जो अक्खड़ हो
एक बैग में खुद को समेट कर
रोशनदान से दुनिया घूम आती है !