भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कस्बे वाली लड़की / दीपिका केशरी

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:57, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपिका केशरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम कविताएँ पढते हुए कस्बाई लडकियां
बागी हो जाया करती हैं,
वो खिड़की से भी यू कूदती हैं
कि असली दुनिया में साबूत पहुंच जाती हैं
और जब वही दुनिया बेरुखी से उसका हाथ दबोचती है,
तब वो भागती हुई
फिर से लौट आती है अपने बिस्तर पे
जहां रखी थी उसने एक आधी पढ़ी कविता
दो जोड़ी नजरें
एक चश्मा
चश्में के डब्बे के ऊपर चिपकी एक कत्थई बिंदी
एक गहरे रंग का दुपट्टा
अपने कानों की बालियां
और न जाने क्या क्या !
लौट कर वो अपने डायरी में लिखती है
प्रेम कविताएँ झूठी होती हैं
साथ ही उस लड़की का किरदार भी झूठा है
जो अक्खड़ हो
एक बैग में खुद को समेट कर
रोशनदान से दुनिया घूम आती है !