भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहाँ खो गई? / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:44, 23 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सबको स्मरण है- अष्टमी
प्रेम-प्रतीक कृष्ण की जन्मतिथि
किन्तु, कृष्ण की जीवन-रक्षा हेतु
जिसे बलिदान कर दिया गया
क्या वह योगमाया भी
स्मृतियों में है?
सभी जानते हैं-
कृष्ण न होते;
यदि अष्टमी को जन्मी हुई
योगमाया पटक कर मारी न जाती।
नायक-प्रधान समाज-गाथाओं में
सीता और योगमाया भुला दी गई।
स्मरण रहीं केवल- रामनवमी
और कृष्ण जन्माष्टमी।
कहाँ खो गई- योगमायाष्टमी ?