भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कहाँ है ओ अनंत के वासी / गुलाब खंडेलवाल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: कहाँ है ओ अनंत के वासी तू मन मे है फिर भी आँखे है दर्शन की प्यासी)
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
कहाँ है ओ अनंत के वासी
 
कहाँ है ओ अनंत के वासी
 
तू मन मे है फिर भी आँखे है दर्शन की प्यासी
 
तू मन मे है फिर भी आँखे है दर्शन की प्यासी
 +
 +
प्रेम शक्ति के तार भले ही मैंने तुझ से बांधे
 +
रह रह कर उठ रहे विवादी सुर भी उनसे आधे
 +
नयनों के सम्मुख दिखती है मुझको अंध गुफा सी

07:39, 2 जून 2009 का अवतरण

कहाँ है ओ अनंत के वासी तू मन मे है फिर भी आँखे है दर्शन की प्यासी

प्रेम शक्ति के तार भले ही मैंने तुझ से बांधे रह रह कर उठ रहे विवादी सुर भी उनसे आधे नयनों के सम्मुख दिखती है मुझको अंध गुफा सी