भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कानन में बोलि रहे / शिवदीन राम जोशी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
{{KKRachana
+
{{KKRachna
|रचनाकार=शिवदीन राम जोशी
+
|रचनाकार=शिवदीन राम जोशी  
 +
|
 +
|
 
}}
 
}}
 
<poem>
 
<poem>

11:19, 30 मई 2012 के समय का अवतरण

कानन में बोलि रहे गैयन के गोलन में,
मोर मुकुट माथे देख चन्द्रमा लजाय जात।
ऐसी छबि जांकी कबि बरनन करेगो कहाँ,
सारद मति थाकी वेद ब्रह्मा गुण गाय जात।
कहे शिवदीन दीनबन्धु जग जाने तुम्हे,
दीनबन्धु होके क्यूँ मोको भरमाय जात।
याते लर्ज-लर्ज कहूँ अर्ज तो सुनोहीगे,
आवो क्यूँ ना प्राणनाथ प्राण अकुलाय जात।