भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीन / मनीषा कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:37, 2 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनीषा कुलश्रेष्ठ |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेकर बैठी हूं कैंची
तराश रही हूं धागे
फूहड़ लगता है जीवन का
बुना हुआ विस्तार
निकले हों अनावश्यक धागे तो

माना बनाया है,
इन्हीं धागों ने
महीन डिज़ाइन मेरे चेतन-अवचेतन का
मगर फिर भी,
आज लेकर बैठी हूं कैंची

तराश दूंगी गलती से लगी गांठे
बेजा आ उलझे रिश्ते
बड़ी हो गई हूं
समझती हूं
सच्ची-झूठी छवियों का खेल
बामुश्किल सीखा है, खुद को और
औरों को
‘ना’ कहना
इसीलिए आज लेकर बैठी हूं कैंची

सहलाती हूं हाथ से देह
और फैलाती हूं, हाथ से देह
देखती हूं कहां है वह अतिरिक्त
जो बनाता है, मन को गंठीला
तन को खुरदुरा

कुछ गांठे अब भी बाकी हैं
खटक रही हैं उंगलियों को
मगर, वे हैं इतनी भीतर
तराशा तो,
उधड़ जाएगा पूरा ताना-बाना
जानती हूं फिर भी
सजग हो लेकर बैठी हूं कैंची

देखो, अब पारदर्शी है न
मन का विस्तार
तन का शांत एकसार फैलाव
तराश दिया है
कोना-कोना अब नहीं निकालेगा
कोई मीन-मेख
लेकर बैठी हूं कैंची!