भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-20 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:01, 12 जून 2010 का अवतरण ()

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह
ऊँचा ढेर
मिट्टी का
केवल मिट्टी नहीं
दीवार है साळ की

दीवार में छेद
बेवज़ह नहीं है

इसमें थी खूँटी
काठ की

जिस पर
खेत से लौटकर
टांगा था कुरता
घर के बुजुर्ग ने

और
आराम के लिए
बंद की थी आँख
जो फ़िर नहीं खुली.


राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा