भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काली हो गोलन बेटी काली हो गोलेन / कोरकू

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:11, 2 फ़रवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{ KKLokRachna |रचनाकार= }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=कोरकू }} <poem> काली...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

काली हो गोलन बेटी काली हो गोलेन
काली हो गोलन बेटी काली हो गोलेन
काली हो गोलन बेटी जूरेना
काली हो गोलन बेटी जूरेना
तेरा मायू से गोदी वो बेटी रावसी बोली
तेरा मायू से गोदी वो बेटी रावसी बोली
सुसरा से गोदी वो बेटी काली हो गोलेन
सुसरा से गोदी वो बेटी काली हो गोलेन
काली हो गोलन बेटी जूरेना
काली हो गोलन बेटी जूरेना
तेरा भाई से गोदी बेटी रावसी बोली
तेरा भाई से गोदी बेटी रावसी बोली
सुसरा से गोदी वो बेटी जूरेना
सुसरा से गोदी वो बेटी जूरेना

स्रोत व्यक्ति - शांतिलाल कासडे, ग्राम - छुरीखाल