भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काले-काले भालू दादा / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:48, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहन लिया क्या नया लबादा,
काले-काले भालू दादा?

ठुमक-ठुमककर पाँव बढ़ाते
खूब झटककर लंबे बाल,
जरा हमें भी दिखला दो ना
लाला झुमकूमल की चाल।
फिल्मी अभिनय जब दिखलाते,
गर्दन कुछ मटकाते ज्यादा!

कभी-कभी टीचर बन जाते
खूब बड़ा सा लेकर डंडा,
हँसकर नमस्कार कर दो तो
सारा गुस होता ठंडा।
घेरे खड़े अभी तक बच्चे-
फिर आओगे, पक्का वादा?