भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ बरस रौ बारामासौ (जेठ) / रेंवतदान चारण

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:20, 8 मई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रेंवतदान चारण |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बालम मिलबा बिलखती लुआं लगाई लाय
जुलमी महीणौ जेठ रौ तिरिया नै तरसाय

कुबदी आवै काळ में इधक महीणौ जेठ
कीकर दिन दूणा कढै थळ धरती में थेट

परदेसी री प्रीत रौ वाल्हा नह विसवास
काळ बरस रै कारणै अबकौ लगै अकास

सोरठो
आयो जेठ असाढ नह बादल नह बीजळी
गळग्यौ तन रौ गाढ बाटां जो जो बालमा