भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ बरस रौ बारामासौ (पोह) / रेंवतदान चारण

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:26, 8 मई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रेंवतदान चारण |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्याळ अर लूंकी सीत में खोदे ऊंडी खोह
बाजै डांफर बायरौ पोचो महीणौ पोह

डग डग करती ठंड में धूजै नर री देह
चुंणता डोकां छांनड़ी जे मुलक बरसतो मेह

मरिया भूखा मांनवी रोया सगळी रात
पोह मास पतझड़ जिसौ तरवर झड़िया पात

टुग टुग जोया टाबरां माईतां रा मुक्ख
माथौ भांगण काळ रौ कद मिटसी औ दुक्ख