भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ बरस रौ बारामासौ (मिगसर) / रेंवतदान चारण

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:25, 8 मई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रेंवतदान चारण |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धंधा बिन किकर धकै मंदौ मिगसर मास
टंक टाळण टुकड़ा नहीं पसुआं रै नहीं घास

परण्या रौ पांणी मरै धण जद खोदे धूड़
रंगत उडगी रेत सूं फबती लागै फूड़

माथै तगारी मेलियां थांभ पावड़ौ हाथ
क्रूर काळ रै कारणै बाळक लीनौ बाथ

पसु अर मांणस पाळबा लेवण सार संभाळ
धरमादौ दांनी करै काढण सारू काळ