भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस्सा किसे सुनाएँ / पूनम गुजरानी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:45, 9 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पूनम गुजरानी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ काटकर
सङक बनाई
छांव कहाँ से लाएँ
गांव बने हैं
शहर आजकल
किस्सा किसे सुनाएँ

सोने-सी फसलें
मुरझाई
उलझी रिश्तों की
तुरपाई
चौपङ बिछी रही
आंगन में
सुख दुःख किसे बताएँ
किस्सा किसे सुनाएँ।

राजघाट पर
नारेबाजी
एकबैठा राजा
बैठा काजी
राजा रानी
परियों का
इतिहास कहाँ दोहराएँ
किस्सा किसे सुनाएँ।

रिश्ते भेंट चढे
सुविधा के
कौन बचाए
फिर दुविधा से
मंदिर मस्जिद
रिश्र्वत लगती
किसको शीश नवाएँ
किस्सा किसे सुनाएँ।