भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस से गर्मी का रखा जाए ये भारी रोज़ा / रंगीन

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:52, 8 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सआदत यार ख़ाँ रंगीन |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस से गर्मी का रखा जाए ये भारी रोज़ा
सर्दी होवे तो रखे मुझ सी बेचारी रोज़ा

देख पंसूरे में तारीख़ बता दे मुझ को
अब के आ तो जी रखूँगी मैं हज़ारी रोज़ा

मुँह पे कुछ रखती नहीं अपने वो पन-भत्ति में
खोलती जब है ददा मेरी दुलारी रोज़ा

आज से फ़िर्नी ओ फ़ालूदा की तय्यारी कर
कल है नौ-चंदी रखेगी मेरी प्यारी रोज़ा

मेरा मुँह उतरा हुआ देख के कहती है जिया
आज तू कर के न रख मिन्नत-ओ-ज़ारी रोज़ा