भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कीजिए कुछ तो कम नहीं अच्छे / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:03, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>कीजिए क...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कीजिए कुछ तो कम, नहीं अच्छे
दिल में इस दरजा ग़म नहीं अच्छे

बस तबाही के सीन देखें जाएं
यार इतने तो हम नहीं अच्छे

दुश्मनों को सुकून मिलता है
रोज़ ये दीदा नम नहीं अच्छे

दिख रहा कुछ है लिख रहे कुछ हैं
यानी एहले क़लम नहीं अच्छे

हम बुरे हैं हमें क़ुबूल मगर
आप भी मोहतरम नहीं अच्छे

अपनी ख़ामोशियों का मतलब है
आप एहले सितम नहीं अच्छे