भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ छोटी कविताएँ / महमूद दरवेश

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:08, 18 अक्टूबर 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.
अगर लौट सकूँ शुरूआत तक
कुछ कम अक्षर चुनूँगा अपने नाम के लिए

2.
अगर जैतून के तेल जानते होते उन हाथों को
जिन्होनें रोपा था उन्हें,
आँसुओं में बदल गया होता उनका तेल
 
3.
आसमान पीला क्यूँ पड़ जाता है शाम को ?
क्यूँकि तुमने पानी नहीं दिया था फूलों में ।
  
4.
मैं भूल गया बड़ी घटनाएँ और एक विनाशकारी भूकंप
याद है मुझे आलमारी में रखी अपने पिता की तम्बाकू ।

5.
इतना छोटा नहीं हूँ कि बहा ले जाएँ मुझे शब्द
इतना छोटा नहीं हूँ कि पूरी कर सकूँ यह कविता ।