भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ जिंदगियां / मनोज अहसास

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:00, 6 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनोज अहसास |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ जिंदगियां होती हैं
सीलन भरे अंधेरे कमरों की तरह
जिनके खिड़की दरवाज़े
मुद्दत से बंद हैं
वहां कोई भी नही जाता
वहाँ घूमते हैं
कुंठाओं के कॉकरोच
उदासियों की छिपकलियां
वेदनाओं की चीटियां
और
कश्मकश की मकड़ियां
जो बुनती रहती हैं सदा
एक जाल
जिससे
कभी हल्की सी भी दरार होने पर
दरवाजे में
अगर आ जाये
कोई तितली
उल्लास की
तो
उलझकर
घुटकर
मर जाये
कुछ जिंदगियां.....
धीरे धीरे
ये सब चीज़े मिलकर
निगल जाती हैं
नैतिकता का प्लास्टर
उखड़ जाता है संस्कारों का फर्श
गिर जाती है
उद्दात की छत
अफसोस
कुछ खूबसूरत हो सकने वाली जिंदगियां.....