भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ तो है / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:20, 30 जून 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओरहान वेली |अनुवादक=सिद्धेश्वर स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या रोज़ाना की तरह
सुन्दर है यह समुद्र?

क्या हर समय
ऐसा ही दिखाई देता है
आकाश?

यह फर्नीचर,
ये खिड़कियाँ
क्या ये रहे हैं सर्वदा
ऐसे ही सुरूप?

नहीं,
ईश्वर की शपथ
नहीं
कुछ तो है
जो हो रहा है
कुछ अजीब।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह