भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केहा झेड़ा लायो ई? / बुल्ले शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:49, 6 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बुल्ले शाह |अनुवादक= |संग्रह=बुल्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ सज्जण गल लग्ग असाडे,
केहा झेड़ा लायो ई?
सुत्तेआँ बैठेआँ कुझ ना डिट्ठा,
जागदेआं सहु पायो ई।
कुम्ब बि इजली शमस[1] बोले,
उल्टा कर लटकायो ई।
इशकन इशकन लग्ग विच्च होइआँ,
दे दिलास बिठायो ई।
मैं तैं काटी नहीं जुदाई,
फिर क्यों आप छुपायो ई।
मज्झिआँ आइआँ माही ना आया,
फूक बिरहों डुलायो ई।
ऐस इशक दे वेक्खे कारे,
यूसफ खूह पवायो ई।
वाँग जुलैखा विच्च मिशर दे,
घुँघट खोल रूलायो ई।
रब्ब-ए-अरनी मूसा बोले,
तद कोह तूर जलायो ई।
लन तरानी[2] झिडकाँ वाला,
आपे हुक्म सुणायो ई।
इशक दीवाने कीता फानी,
दिल यतीम बणायो ई।
बुल्ला सहु घर वसिआ आ के,
शाह अनायत पायो रे।
आ सज्जण गल लग्ग असाडे,
केहा झेड़ा लायो ई।

शब्दार्थ
  1. एक सूफी संत का नाम
  2. स्व-प्रगटावा, स्वयंभू