भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"कैप्सूल / पूजा प्रियम्वदा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पूजा प्रियम्वदा |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

03:55, 27 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

दिन में
उतनी ही बार
निगलनी हैं गोलियाँ
जितनी बार कहते थे--
सुनिये...
कि ज़िन्दा होने के
कुछ तो भरम
बाकी रहें
घुलनशील कैप्सूल
सुन्दर दिखता है
लेकिन कड़वा है