भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कै अब ढुर लागै कूकरा, बड़े भोरहि बोले कूकरा, / बुन्देली

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:34, 12 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बुन्देली |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह=ब...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कै अब ढुर लागै कूकरा, बड़े भोरहि बोले कूकरा,
अटारिन राजा आजुल सोइये औ वा पै आजी रानी चढ़ गईं।
तुम जागौ बड़न के लाल अब ढुर बोलै कूकरा।
बड़े भोरहि बोले कूकरा।
काना बसै भलौ कूकरा औ काना बसै बन मोर।
बागन बसै भलौ कूकरा औ महलन बसै बन मोर।
कहा चुगै भलौ कूकरा औ कहा चुगे बन मोर।
दाना चुगै भलौ कूकरा औ दूदा पिये बन मोर।
कै अब ढुर लागै कूकरा...
ऊँची अटारिन बाबुल सोइये औ वा पै मैया रानी चढ़ गईं।
तुम जागौ बड़न के लाल अब ढुर बोलै कूकरा।
बड़े भोरहि बोले कूकरा