भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कोई अपना नहीं है अपनी सी लगती इस दुनिया में / चन्द्र" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चन्द्र |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poe...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 37: पंक्ति 37:
 
इस दुनिया में !
 
इस दुनिया में !
  
उसकी लहू-सी लाल आँखों में..
 
उसकी लहू-सी लाल आँखों में
 
खतरनाक शोषण की डरावनी निशानियाँ
 
दिखती थी…
 
 
मैं देख रहा था उसे कि तभी
 
धाँय से
 
चीख़ते हुए
 
भीतर-बाहर पसीजते हुए
 
वहीं की पथरीली ज़मीन पर
 
बुरी तरह से गिर पड़ा था वह
 
 
और मेरे होठों पर
 
एक शब्द था —
 
 
आह !
 
 
</poem>
 
</poem>

11:52, 25 मई 2019 के समय का अवतरण

मेरी फटती छाती और पीठ पर
उऽऽउफ़्फ़ !
कितने घाव हैं ?

उऽऽउफ़्फ़ !
उऽऽउफ़्फ़ !
कि कोई अपना नहीं है अपनी सी लगती
इस दुनिया में ।

कि एक मामूली मजबूर मजूर के घावों के भीतर
टभकते
कलकलाते मवाद को
धीरे-धीरे-धीरे आहिस्ते-आहिस्ते
और नेह-छोह के साथ
कोई काँटा चुभो दे
फोड़कर
उसे बहाने के लिए…उऽऽउफ़्फ़ !
कि कोई अपना नहीं है अपनी सी लगती
इस दुनिया में ।

ओह !
कितनी पराई दुनिया है ना ‘मोहन’
कि समझती नहीं
कोमल आह
हमारे जैसे बेबस मज़दूरों की !

उफ़्फ़ !
कि कोई अपना नहीं है अपनी सी लगती
इस दुनिया में !