भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कोई दस्तक कोई ठोकर नहीं है / मयंक अवस्थी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:19, 7 दिसम्बर 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मयंक अवस्थी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem> को...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई दस्तक कोई ठोकर नहीं है
तुम्हारे दिल में शायद दर नहीं है

वहाँ नरगिस का दीदावर नहीं है
हिना जिस हाथ का ज़ेवर नहीं है

वही खुशहाल है इस दश्त में भी
जो अपने जिस्म में होकर नहीं है

मियाँ कुछ रूह डालो शायरी में
अभी मंज़र में पसमंज़र नहीं है

सलामत आसमाँ की छत है जबतक
कोई संसार में बेघर नहीं है

यहाँ दर कम हैं दीवारें बहुत हैं
मकाँ कहिये इसे ये घर नहीं है

बहुत हल्के हुये किरदार सारे
किसी काँधे पे कोई सर नहीं है

ये दुनिया आसमाँ में उड़ रही है
ये लगती है मगर बेपर नहीं है