भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कोई बरसन लागी काली बादली! / हरियाणवी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(New page: {{KKGlobal}} {{ KKLokRachna |रचनाकार }} कोई बरसन लागी काली बादली ! "डौलै तै डौलै, हालीड़ा, मै...)
 
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
{{
+
{{KKLokRachna
KKLokRachna
+
|रचनाकार=अज्ञात
|रचनाकार
+
}}
 +
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 +
|भाषा=हरियाणवी
 
}}
 
}}
  

18:20, 13 जुलाई 2008 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कोई बरसन लागी काली बादली !

"डौलै तै डौलै, हालीड़ा, मैं फिरी

मन्ने किते न पाया थारा खेत ।"

बरसन लागी काली बादली !

"कोई चार बुलदांका, हालीड़ा, नीरना

दोए जणिएँ की छाक !"

बरसन लागी काली बादली !

"कितरज बोया, हालीड़ा, बाजरा ?

कोई कितरज बोई जवार ?"

बरसन लागी काली बादली !

"थलियाँ तै बोया, गोरी धन, बाजरा,

कोई डेराँ बोई जवार"

बरसन लागी काली बादली !


भावार्थ


--'देखो, काली बदली बरसने लगी है । "अजी ओ किसान, मैं मेंड़-मेंड़ पर घूमी-फिरी, तुम्हारा खेत मुझे कहीं

नहीं मिला ।" और काली बदली बरसने लगी है । " चार बैलों के लिए मैं भूसा लाई हूँ, दो आदमियों के पीने

लायक छाछ ।" और काली बदली यह बरसने लगी है ।

--"गोरी धन, ज़रा किसी ऊँची मेड़ पर चढ़ कर निहारो, मेरे गोरे बैल के गले में बड़ी घंटी भी तो बज रही है ।"

फिर काली बदली बरसने लगी है ।

--"अजी ओ किसान, किस तरफ़ तुमने बाजरा बोया है ? और कहाँ बोई है जवार ?" काली बदली बरसने लगी

है ।

--"गोरी धन, ऊपर के खेत में बाजरा बोया है और्नीचे के खेत में जवार ।"और काली बदली बरसने रही है ।'